सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सबसे ज़्यादा पढ़ी गयी पोस्ट

सिलाई मशीन (SILAAI MACHINE) HINDI HORROR STORY

“ दीदी मैं बहुत मुसीबत में हूँ। मेरी सिलाई मशीन पता नहीं कहाँ चली गयी है। उसके बिना मैं काम कैसे करूँगा दीदी ? मेरी सिलाई मशीन ढूँढवा दो दीदी। ” राकेश रेणु के सामने गिड़गिड़ा रहा था।

5 छोटी हिंदी हॉरर कहानियाँ (5 SHORT HINDI HORROR STORIES)

 


















नमस्कार, 

आविर्भाव पर यह मेरी एक नयी पहल है, जिसमें मैं कुछ छोटी कहानियाँ एक साथ आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ। इन कहानियों का आपस में कोई संबंध नहीं है, अतः इन्हें केवल एक मज़ेदार डर के एहसास के लिए पढ़ें। 

यदि आपको यह प्रयास पसंद आए तो कॉमेंट्स में अवश्य बताएँ तथा अपने दोस्तों के साथ share करें। 
तो बिना किसी देर के पेश हैं, 5 छोटी हिंदी हॉरर कहानियाँ -


1. लाश 

पुनीत ने जैसे ही अपनी गाड़ी की डिग्गी खोली, एक अजीब से डर ने उसपर अपना क़ब्ज़ा जमा लिया। उसके हाथ पैर जड़ हो गए और वो फटी आँखें लिए गाड़ी की डिग्गी देखता रहा। 

गाड़ी की डिग्गी में एक लाश पड़ी थी।

पुनीत थोड़ी देर तक उस लाश को ताक़त रहा और फिर एक तेज़ी से उसने डिग्गी को पटक कर बंद कर दिया। आस पास देखने के बाद उसने अपने आप से सवाल किया, 

"दूसरी लाश कहाँ गयी?"



2. शोर  

पड़ोस के स्कूल से आते बच्चों के शोर ने राजेश को परेशान कर रखा था। इस बार वो सच में घर बदलने के बारे में सोच रहा था। मोहल्ले के कई लोग उस जगह से जा चुके थे। 

ऐसा नहीं था की उसे बच्चों से कोई दिक़्क़त थी, बल्कि स्कूल में आग लगे 5 साल से भी ज़्यादा का समय बीत चुका था, लेकिन उन बच्चों की आवाज़ें आज भी वहाँ से आती हैं।

रोज़।



3. जूते

आपको पता है, रात को सोते समय अपने बेडरूम में कभी भी जूते चप्पल नहीं रखने चाहिए। 

क्यूँकि, जब आपने अपने जूते नहीं पहन रखे होते हैं,
तो रात में कोई आकर उनमें खड़ा हो जाता है।


4. दीवार

"आप एक ही करवट सोते हैं क्या?" फ़िज़ियो ने रजत के शरीर को खींचते हुए पूछा।
थोड़ी देर रजत चुप रहा पर फिर धीमे से बोला, 

"जी"

"ग़लत बात है सर," फ़िज़ियो ने इस बार रजत की दोनों बाहें उसकी पीठ के पीछे मिलायीं, "करवट बदल कर सोया कीजिए।"

"जी मैं बिस्तर घुमा लूँगा अपना।" रजत ने अपने बाजू फ़िज़ियो की जकड़ से छूटने के बाद कहा।

फ़िज़ियो रजत को देखता रहा, "करवट बदलने के लिए बिस्तर घुमाने की क्या ज़रूरत है?"

रजत ने अपना सर थोड़ी देर नीचे रखा, और फिर धीरे से उठाया, मानो कुछ सोचकर आया हो।

"दरसल," उसकी आधी बात उसके गले में ही अटक रही थी, फिर भी वो बोला, "मैं दीवार की तरफ़ मुँह करके सोता हूँ।"

"ऐसा क्यूं भला ?" फ़िज़ियो रजत की गर्दन की कसरत करता बोला।

"क्यूंकी दीवार की तरफ़ मूंह करने से मुझे वो नहीं दिखते।"

"कौन?"

"वही लोग, जो हर रात मेरे कमरे की दूसरी दीवार से निकल कर मुझे घूरते रहते हैं।"


5. माँ 

आदित्य और रीना की शादी बस नाम की ही बची थी। 

दोनों रहते भले ही एक घर और कमरे में थे, लेकिन दोनों सिर्फ़ और सिर्फ़ अपनी 7 साल की बेटी सुहाना की वजह से बंधे हुए थे। 

और एक रात आदित्य और रीना की बहस इतनी बढ़ गयी, कि आदित्य ने ग़ुस्से में आकर रीना को धक्का दे दिया। रीना के पैर उलझे और पीछे की तरफ़ गिरी। उसका सर बिस्तर के कोने से टकराया और उसके बाद जो उसकी आँखें बंद हुईं तो फिर कभी नहीं खुलीं।

आदित्य को समझ में नहीं आया कि वो क्या करे, काफ़ी देर तक सोचने के बाद, उसने रीना की लाश को एक गद्दे में लपेटकर गाड़ी के पीछे की सीट पर डाल दिया।

देर रात उसने रीना की लाश को शहर से दूर एक नदी में फेंक दिया और घर आकर सारे सबूत मिटा दिए। उसने सोचा कि सुहाना पूछेगी तो बोल देगा कि मम्मी थोड़े दिन के लिए काम से बाहर गयी हैं।

लेकिन अजीब बात यह हुई कि सुहाना ने अपनी मम्मी के बारे में पूछा ही नहीं। वो रोज़ की तरह सुबह उठ कर खुद स्कूल के लिए तैयार हुई, अपने पापा के हाथ का बनाया नाश्ता खाया, और स्कूल बस में बैठ गयी।

यही सब कुछ दिन चला जब एक दिन सुहाना ने आदित्य से कुछ ऐसा कहा, जिसे सुनकर उसके पैरों तले ज़मीन खिसक गयी।

"पापा, क्या मम्मी हम दोनों से ग़ुस्सा हैं?" 

आदित्य अपना काम छोड़ कर सुहाना की तरफ़ पलटा, "ऐसे क्यूं बोल रही हो बेटा?"

इस पर सुहाना अपनी ड्रॉइंग में कलर करती हुई बोली, 

"क्यूंकी कुछ दिन से मम्मी आपके पीछे पीछे घूमती रही हैं। वो कुछ बोलती भी नहीं हैं, बस आपके पीछे खड़ी रहती हैं।"


(समाप्त)



5 SHORT HINDI HORROR STORIES

इस हफ़्ते की सबसे प्रसिद्ध कहानी